रेल कर्मियों की मांग को पूरा करने के लिए उच्च स्तरीय विचार किये जा रहे है।

7 days ago vatan 0

*जब @RailMinIndia के साथ फेडरेशन की लगातार वार्ता जारी है और दोनों पक्षों की तरफ से श्रमिक समस्याओं और उनकी न्यायोचित मांगों का यथासंभव समाधान करने के प्रयास उच्च स्तर पर किए जा रहे हैं, तब रेलकर्मियों को उकसाने और शांतिपूर्ण औद्योगिक वातावरण में अशांति पैदा करने की कोशिश बेमानी है।*

*रेलकर्मियों को बखूबी पता है कि “अनिश्चितकालीन रेल हड़ताल” की तरह ये “वर्क टू रूल” भी सफल नहीं हो पाएगा और न ही अधिकांश रेलकर्मी अब किसी ऐसे संगठन के बहकावे में आने वाले हैं, जो दो-दो बार अनिश्चितकालीन हड़ताल के पक्ष में 98% रेलकर्मियों का मत लेकर भी हड़ताल से हर बार भाग चुका हो।*

*राजनीतिक पार्टियों की तरह यूनियनों की मान्यता के आगामी चुनाव के मद्देनजर रेलवे के मान्यताप्राप्त संगठन अपने-अपने पक्ष में माहौल गरमाने, रेलकर्मियों को बरगलाने और शासन-प्रशासन को ब्लैकमेल करने की रणनीति बनाकर जहां-तहां धरना-प्रदर्शन करके कीमती समय एवं मानव संसाधन का ह्रास कर रहे हैं। अधिकांश भ्रष्ट, नालायक और निकम्मे यूनियन पदाधिकारियों से रेलकर्मियों का मोह भंग हो चुका है। सरकार को चाहिए कि रेलकर्मियों की वाजिब मांगों को अविलंब स्वीकार करके भ्रष्ट यूनियन पदाधिकारियों को समस्त सरकारी सुख-सुविधाओं और खैरात पर अपना वर्चस्व कायम करने से रोके।*


Umesh sharma
(Buraeu Chief)
Railway Samachar
www.railsamachar.com

Please follow and like us: