दिल्ली पुलिस द्वारा अवैध शराब को बेचने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाती है

दिल्ली: शराब एक सामाजिक बुराई है। हो सकता कुछ लोग इससे सहमत न हों। परंतु आज शराब समाज में हो रहे बहुत सी समस्याओं और अपराधों के लिए एक कारण है। अभी कुछ समय पहले उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में एक शराबी व्यक्ति ने अपनी पत्नी की हत्या इस लिए कर दी कि वह स्त्री उसको शराब पीने से मना करती थी।


खैर हम बात करते हैं शराब के अपराध संबंधित पहलू की। अवैध शराब बेचना अपराध है। आप एक राज्य की शराब किसी दूसरे राज्य में नहीं ले जा सकते। अवैध शराब रखना और बेचने के लिए दिल्ली एक्साइज एक्ट 2009 के तहत छः महीने तक व 1 लाख रुपये तक जुर्माने की सजा है।
आज जो सबसे ज्यादा समस्या व शिकायतें आती हैं वह है खुले में शराब पीने की। जहां लोग इसका बुरा मानते ही हैं वही यह बहुत से अपराधों के लिए भी जिम्मेवार है। खुले में सार्वजनिक स्थानों में शराब पीना, शराब पीकर हुड़दंग करना आदि भी अपराध की श्रेणी में आता है। इसमें दिल्ली एक्साइज एक्ट के तहत 5000/- से 50, 000/- रुपये तक जुर्माने का प्रावधान है।

दिल्ली पुलिस द्वारा अवैध शराब को बेचने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाती है, साथ ही खुले में शराब पीकर उत्पात मचाने वालो के खिलाफ भी हम कार्यवाही करते हैं।

हमने थाना गाज़ीपुर क्षेत्र के पार्कों तथा सार्वजानिक स्थानों में खुले में शराब पीने वालों के खिलाफ ड्राइव चलाई हुई हैं। इसमें क्षेत्र की कुछ जागरुक महिला और पुरुष नागरिकों का बड़ा सहयोग रहा है। मैं उनका इस सहयोग के लिए तहे दिल से धन्यबाद करता हूँ। हमने पिछले कुछ महीनों में 112 लोगों के खिलाफ खुले में शराब पीने के लिए कार्यवाही की है ।

मैं थाना गाज़ीपुर क्षेत्र के सभी जागरूक नागरिकों से अपील करता है कि आप इस मुहिम में हमारा सहयोग करें । खुले में शराब पीते शराबियों और असामाजिक तत्वों के ख़िलाफ़ बेखौफ शिकायत करें।
खुले में शराब पीते पकड़े जाने वाले लोगों को दिल्ली एक्साइज एक्ट 2009 की धारा 40 के अंतर्गत दण्डित किया जाएगा। आपकी और हमारी आपसी भागीदारी हमारे क्षेत्र के पार्कों और सार्वजानिक स्थानों को असामाजिक तत्वों के जमावाड़े से मुक्त कर सकता है।

थाना गाज़ीपुर क्षेत्राधिकार से सम्बंधित किसी भी समस्या को आप सीधा मुझ तक विभिन्न माध्यमों से पहुंचा सकते है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

%d bloggers like this: