चार बार नियम तोड़ा तो लाइसेसं होंगे रद्द : सड़क परिवहन विभाग

5 months ago vatan 0

वाहन फिटनेस प्रमाण पत्र जरूरी, बिना फिटनेस प्रमाणपत्र को दोबारा पकड़े गए तो कार्रवाई होगी

कोई भी सार्वजनिक वाहन एक साल मे एक ही ट्रेफिक नियम के उल्लघन मे चार बार पकड़ा जाता है तो परमिट के साथ ही उसका पजींकरण भी रद्द कर दिया जायेगा । इसके अलावा बिना फिटनेस प्रमाण पत्र के दोबारा पकड़े जाने पर भी पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा ।
दिल्ली परिवहन बिभाग (डी टी सी) ने एक ही नियम का बार -बार उल्लंघन करने वाले सार्वजनिक वाहनो पर नकेल कसने के लिए इनफोर्समेंट (प्रवर्तन ) की सशोधित नीति तैयार की है । वरिष्ट अधिकारियो के मुताबित , इसे एसटीए (राज्य परिवहन प्राधिकरण ) बोड पहले ही मंजुरी दे चुका है । अभी ई -चालान शुरु करने की व्यवस्ता को लेकर काम किया जा रहा है । जैसे ही यह शुरु होगा ,ट्रैफिक पुलिस के साथ डाटा शेयर कर ऐसे वाहनों के खिलाफ कार्रवाई शुरु कर दी जाएगी । ट्रैफिक पुलिस में ई -चालान व्यवस्ता पहले से चल रही है ।

अधिकारियो के मुताबिक , कोई चालक एक ही वाहन से एक साल मे एक ही नियम तिन बार तोड़ता है तो चालक का डीएल, वाहन का परमिट एक तय समय के लिए निलबित कर दिया जाता है साथ ही वाहन को जब्द कर लिया जाता है अगर यही साल मे चार बार हुआ तो डीएल ,बैज के साथ वाहन का पंजीकरण भी रद्द किया जाएगा । इसी तरह बगैर फिटनेस प्रमाणपत्र के वाहन पकड़ा गया तो उसे 15 दिनो के लिए जब्द कर लिया जाता है । फिर वाहन स्वामी को फिटनेस कराने के लिए 15 दिनो का समय देकर छोड़ा जाता है । अगर वाहन स्वामी उन 15 दिनो में फिटनेस प्रमाणपत्र नही दिखाता है तो इनफोर्समेंट टीम परिवहन बिभाग को उस वाहन का पंजिकरण रद्द करने की सिफारिस कर सकती है । अगर चालक वाहन के बगैर मान्य डीएल को चलाता हुआ पकड़ा जाता है तो वाहन का परमिट व पंजीकरण रद्द करने के लिए एसटीए बोर्ड से मंजुरी लेनी होगाी ।
नए वाहन पर पांच साल का बीमा जरुरी होगा
अगर आप वाहन खरीदने की तैयारी कर रहे है तो अब आपको थोड़ी ज्यादा जेब ढिली करनी पड़ेगी । दरअसल अब वाहन खरीदते समय आपको एक साल नही बल्कि एक साथ पांच साल तक की बिमा कराना होगा । दिल्ली परिवहन विभाग ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी किया है ।
आदेश के मुताबिक चार पहिया वाहन का एक साथ तीन साल और दोपहियो वाहन खरिदने वालो को पांच साल का बिमा एक साथ ही कराना होगा । दिल्ली परिवहन का इस आदेश के मुताबिक , एक सितंबर से जिन भी नए वाहनो की बुकिंग हुई है , खरीददारो को अपने चार पहिय वाहन के लिए बिमा की तीन साल की किश्त जमा करानी होगी
वरिष्ट परिवहन अधिकारी के मुताबित सुप्रिम कोर्ट के निदेश पर यह फैसला लिया गया है । क्रेंद्रीय परिवहन मत्रांलय ने देश के सभी परिवहन प्राधिकरणो को यह व्यवस्ता लागु करने के लिए आदेश जारि कर दिए है
सभी वाहन शोरुम डिलर को भी इस संबध मे जरुरी दीशा- निर्देश जारी किए गए है । देश मे कुल 18 करोड़ से अधिक वाहन जब्द है । इसमे महज 6 करोड़ वाहन ऐसे है , जो नियमीत बीमा कराते है ।

Please follow and like us: